Kaamyaab Bollywood Movie Review – Nilesh

Kaamyaab Movie Review: Hello Friends आज हम आपको Bollywood film Kaamyaab movie Review  की जानकारी देंगे। हम आपसे अपनी खुद की राय जाहिर करेंगे। दोस्तों हमारे लिए ये कोई मूवी रिव्यु नहीं है बल्कि हमारे नजरो से फिल्म की सटीक जानकारी देने का प्रयास है।

Kaamyaab Movie Review Starcast Story and Collection:

Kaamyaab Movie Review Starcast Story and Collection

इस फिल्म को डिरेक्ट किया और लिखा है Hardik मेहता ने. इस फिल्म में Sanjay Mishra और Vivek Dobrial ने प्रमुख भूमिका निभाई है। इस फिल्म पे concept पर सेकड़ो फिल्मे बन चुकी है। हम कई बार ऐसी फिल्मे हमारे Bollywood Industry में देख चुके है। Bollywood नहीं बल्कि Hollywood Film Industry भी ऐसी फिल्मे बना चुकी है।

Basically फिल्म का Concept कुछ ऐसा है लोग देखना पसंद करते है की पुराने बीते ज़माने के artist New Generation के हिसाब से कैसे अपने आप को बदलते है, Adjust करते है, सुधारते है। यह फिल्म भी कुछ इस तरह की कहानी दर्शाती है। इस फिल्म में यह भी दर्शाने की कोशिश की है Actor and actress पैसो को लेकर कितने Possesive होते है। कैसे काम न मिलने पर उन्हें बुरी आदते लग जाती है।

आपने सोचा है की इस प्रकार की फिल्मे बनाने के पीछे क्या वजह हो सकती है। मेरी नजर से देखोगे तो ऐसी फिल्मे बनाने के पीछे लोगो को यह दिखाना होता है, लोगो को यह जताना होता है की Bollywood industry में Old Actor and Actress की क्या value है। लोगो को यह महसूस करना है की इस Bollywood, Hollywood Industry की असलियत क्या है। यह दिखाना है की जिसकी आज चलती है वही राजा होता है।

इस फिल्म  बात करे तो इस फिल्म में Sudhir नाम के शख्स की कहानी बयान की, जो की अपने समय के Superstar रह चुके है। सुधीर जी ने अपने कार्यकाल में 499 फिल्मो में काम किया है। लेकिन बीते कुछ सालो से वो इस industry से जुड़े नहीं है। फिल्म में सुरुवात की बात करे तो sudhir यानि की फिल्म के Lead हीरो जो की एक आम जिंदगी बिता रहे है। जिन्हे नशे ने पूरा ग्रहण किया है। उनके पास न ही पैसा है न ही स्टारडम।

लेकिन एक दिन उन्हें एक पत्रकार से पता चलता है की उन्होंने अपने जीवनकाल में 499 फिल्म complete की है। और अगर आप अपनी 500 वी फिल्म complete कर दोगे तो एक नया record बन जाएगा। आगे यह बात उन्हें थोड़ी खटकती है और वो अपनी 500 वी फिल्म पूरी करने के लिए चल पड़ते है।

फिल्म में आगे चलकर वो रोल पाने के लिए बड़ी मेहनत करते है। आखिर उन्हें फिल्म ऑफर की जाती है। लेकिन पुराने सुधीर और नए सुधीर ले acting में फरक होने के कारण, उनकी गंदी आदतों के कारण  ठीक से perform नहीं कर पाते।

इसी बिच Bollywood Industry की सच्चाई बयान की है। इस industry में लोगो से Star को मिलने वालो जगह, Industry का actor के प्रति होने वाला बर्ताव इन चीजों को बारीकी से दिखाने की कोशिश की है।

फिल्म में हमें आखिर के एक scene में देखने को मिलता है की, सुधीर जी stage पर perform कर रहे थे। लोग भी उनकी acting को enjoy कर रहे थे। लेकिन उसी वक्त बड़े स्टार की entry हो जाती है और लोग सुधीर भूल के उस बड़े एक्टर को देखने लगते है। यह scene थोड़ा emotional करने वाला है।

Bottom Line:

इस फिल्म ने Bollywood फिल्म industry की असलियत बयान की है। इस फिल्म में दिखाया है की हर दिन आपका नहीं होता। इस फिल्म ने आपको सिखाया है जो दिन आपका है उसे समेट लो पकड़ लो और जितना हो सके उतना उस पल को अपना बनालो। पैसे कमाओ, Saving करो, शायद कल हो ना हो।

DISCLAIMER:

आपको इसकी जानकारी देने से पहले हम आपको बताना चाहते हे की, किसी भी Movies Original content की या movie की Piracy करना भारतीय कानून के तहत दण्डनीय गुन्हा है. moviemb.com इस प्रकार की Content piracy न करे ऐसा सबको सूचित निवेदन है और movie की Piracy का पूर्ण रूप से विरोध करती है. इस के अलावा हम आपको बता दे की यहाँ पर बताने वाली जानकारी information केवल आपको समझाने के लिए है और आपको गैर-कानूनी गतिविधियों के विषय में जानकारी प्रदान करने एवम आप इससे दूर रहे ये आगा करने के लिए है।आपको यह जानकारी प्रदान करने का मूल उद्देश्य लोगो को piracy website की सही में जानकारी मिले और वो उनसे दूर रहे। इस के साथ ही वे अनैतिक गतविधियोको प्रोत्साहन ना प्रदान करे। हम आपको सूचित करते है की कृपया ऐसी websites से दूर रहें और film download एवम Movie watch का सही रास्ता चुनें।

Leave a Comment